Position Sizing In Hindi – Trading मे 90% तक Profit को बढ़ा सकते है

Position Sizing In Hindi - Trading मे 90% तक Profit को बढ़ा सकते है
Rate this post

Position Sizing, Trading की दुनिया में एक Basic Concept है, Financial Market में एक Trader की Position Sizing का चुनाव करने में Important Role निभाती है। यह एक Displine Approach का Part होती है जो Traders को Profits की Possibility को बढाते हुए अपने Risk को Effective ढंग से Manage करने मे मदद करता है। प्रत्येक Trader को Position कि Size का सावधानीपूर्वक चुनाव करके, Trading Risk और Reward के बीच एक अच्छा Balance बना सकते हैं, जो उनकी Trading Success में योगदान देती है।

Beginners से लेकर Experience Traders तक, सभी Levels के Traders के लिए Position Sizing एक Important Part है और कोई भी Trader इसको बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताते है। जबकि ज्यादातर Trader मुख्य रूप से Entry और Exit Strategy Points पर ध्यान देते हैं, अक्सर Position Sizing के Importance को नजर अंदाज कर देते हैं। हालाँकि, जिस तरह से Per Trade के लिए Capital का चुनाव करते हैं उसका सीधा Effect आपके Trading Performance और Long Term Profitability पर पड़ता है। Position Sizing को नजरअंदाज करने से अनावश्यक Losses हो सकता है और आपके Trading Account कि Performance में बाधा डालती है।

हम Article मे Trading में Position Sizing की Importance, इसके आवश्यक Factors के बारे मे समझेंगे और Effective Risk Management में इसके Role को समझेंगे। हम Risk सहनशीलता, Account Size और Market Conditions को ध्यान में रखते हुए Position Size को Calculate करने के लिए अलग-अलग प्रकार कि Techniques के बारे मे समझेंगे। इसके अलावा, हम Position Sizing के Importance के बारे मे बात करेंगे, कौनसे Factors Effect करते Position Size को और Comman Mistakes को जानेंगे।

Position Sizing Meaning In Hindi – पोजीशन साइजिंग का मतलब हिन्दी मे

Trading कि दुनिया में Position Sizing एक Important Risk Management Techniques है। इसमें प्रत्येक Trade के लिए Trading Capital का कितना Part का उपयोग मे लेना चाहिए शामिल होता है। इस के जरिए कोशिश कि जाती है Potential Returns और Potential Losses को Balanced करना, और एक Sustainable Trading Performance के लिए मदद है। Position Sizing को Calculate करने के लिए Trader अपनी Risk सहनशीलता, Account Size के कुछ Part का और Market Conditions पर विचार करते हैं। Effective Position Sizing Bearish Movement के दौरान Capital को Protect करता है और Favorable Market Conditions के दौरान Profit को Optimize करता है, जिससे बेहतर Risk Management और लगातार Trading Performance Imporve होती हैं।

What Is Position Sizing – पोजीशन साइजिंग क्या है

What Is Position Sizing - पोजीशन साइजिंग क्या है

Trading की दुनिया में Position Sizing एक Important Point है, जिसकी सहायता से किसी एक Trade मे कितने Fund को लेना चाहिए ये जानने मे मदद करता है। यह एक Important Risk Management Techniques के रूप में काम करता है जो Traders को उनको Trading Capital को Protect करते हुए उनके Risk-Reward Ratio को Imporve करने में मदद करता है।

Position Sizing को लगाने का पहला कारण होता है Profit को Maximum करना या बढाना और Potential Losses को कम करने मे मदद करता है। सही Position Size को Calculate करके, Trader अपने Risk को Effective ढंग से Manage कर सकते हैं और अपने Trading Performance में अच्छा Profitable बनाए रख सकते हैं।

किसी Trader के लिए Position Size का चुनाव करते Time पर कई Factors Role निभाते हैं। इन Factors में Trader की Risk लेने Capacity, पुरे Account का Size और Trading के Time Special Conditions शामिल होती हैं। इन Factors को ध्यान में रखते हुए यह Conform होता है कि Position Size Traders की Risk उठाने की Capacity और Financial Goal के अनुसार हो।

Trading मे Success के लिए Position Size को अपने Trading Plan मे शामिल करना Important है। यह Traders को किसी एक Trade में अत्यधिक Risk से बचने में मदद करता है, जिससे Traders कि सारे Trading Capital पर Loss के Possible Effect को कम किया जा सकता है। इसके अलावा, यह Traders को ज्यादा Risk उठाए बिना Profitable Opportunities से Profit Book करने मौका देता है।

Position Size Trading का एक Important Part है जो Traders को Risk को Effective ढंग से Manage करने और उनके Trading Performance को सक्षम बनाता है। Displined Trading Approach मे Position Sizing Techniques को लगा करके, Trader अपनी Risk Management Strategies को अच्छा कर सकते हैं और Trading मे अन्य Traders से Profitable रूप से आगे बढ़ सकता है ।

Stock Market Conversion के लिए हमारा Telegram Channel Join करे । – Join Now

Factors Affecting Position Sizing – पोजीशन साइजिंग को इफेक्ट करने वाले फेक्टर

Position Sizing का चुनाव करना Trading मे एक Important Part है जिसमें प्रत्येक Trade के लिए उपयोग मे आने वाला Capital की Proper Amount का चुनाव करना शामिल है। कई Factors Position Sizing के Desicions को Effect करता हैं, और Effective Risk Management और लगातार Trading Performance Imporve करने के लिए इन Factors को समझना Important है। Position Size को Effect करने वाले Important Factors निम्न प्रकार हैं ।

Account Size और Capital Allocation

किसी Trader के Trading Account का Size सीधे Position Sizing को Effect करता है। बड़े Account वाले Trader Individual Trader के लिए अधिक Capital काम मे सकते हैं, जबकि छोटे Account वाले Traders को अपनी Position Size के बारे में अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता होती है। Proper Fund Allocation यह Conform करता है कि Trader इस तरह से Risk Management करें जो उनके पुरे Account Size के समानुपाती हो, जिससे Market में Ups-Downs के दौरान उनकी Capital को Protect करने में मदद मिले।

Market की Volatility और ATR(Averages Ture Range)

Market में Volatility Position Sizing को Important रूप से Effect कर सकती है। ज्यादा Unstable Market को Bullish Price Movement से Potential Risk का Management करने के लिए छोटी Position Sizing की आवश्यकता होती है। Market की Volatility को मापने और उसके अनुसार अपनी Position Size को Adjust करने के लिए Traders अक्सर Averages Ture Range(ATR) Indicator का उपयोग करते हैं। High ATR Price अधिक Market Volatility का संकेत देता है, जिससे Traders को Potential Losses को कम करने के लिए Position Size को कम करना पड़ता है।

Trading Strategy और Success Rate

अलग-अलग Trading Strategies कि अलग-अलग Success Rate होता हैं, जो Position Sizing के आधार पर Risk Reward को Effect करती हैं। High Success Rate वाली Strategies अधिक Aggressive Position Sizing का बढ़ी Position Sizing मांगती हैं, क्योंकि Successful Trades कि Possibility अधिक होती है। दूसरी ओर, कम Success Rate वाली Strategies को Losses से बचने के लिए और Capital को Protect के लिए Position Sizing को कम करने की आवश्यकता हो सकती है। Traders को अपनी Trading Strategy के Historical Performance पर विचार करना चाहिए और इसके Risk Profile से मिलाने के लिए अपनी Position Sizing को बदलना चाहिए।

Trading में Position Size Account Size, Market की Volatility, Trading Strategy जैसे अलग-अलग Factors को Effect होती है। Successful Traders Risk और Reward के बीच Balance बनाते हुए, अपनी Position Sizing को अपने Favor मे करने के लिए इन Factors पर सावधानीपूर्वक विचार करते हैं। Effective Position Size Techniques को लाग करके, Traders अपनी Risk Management Strategies को Imporve कर सकता हैं और Trading की बढ़ती दुनिया में लगातार Profitable बने रहने के लिए के अपनी Position Sizing ध्यान देना आवश्यक हैं।

How To Calculate Position Sizing – पोजीशन साइजिंग को कैसे कैल्‌क्‍युलेट्‌ करे

How To Calculate Position Sizing - पोजीशन साइजिंग को कैसे कैल्‌क्‍युलेट्‌ करे

Position Sizing Trading का एक Important Part है, और इसकी Calculation करने के लिए कई तरीके हैं, कि अलग-अलग Trading Style और Risk Management प्राथमिकताओं के अनुसार बनाया गया है। Position Sizing की Calculation करने के लिए Traders द्वारा उपयोग मे लाए जाने वाले कुछ सामान्य तरीके निम्न प्रकार हैं ।

Fixed Rupee Amount

इस Method में, Trader अपनी Trading Capital की एक Fixed Amount या Percent का चुनाव करते हैं जिसे वे Per Trade पर Risk लेने को तैयार होते हैं। उदाहरण के लिए, एक Traders एक Trade पर 100₹ या अपनी पूरे Trading Capital के 2% का Risk लेने का Desicion लेता है। फिर Position Sizing की Calculation Risk Amount को Entry Price मे से Stop-Loss Price को घटाकर के भाग दे करके की जाती है।

Position Size = Risk Amount / (Entry Price – Stop-Loss Price)

Percentage of Trading Capital

इस Approach के साथ, Traders प्रत्येक Trade के लिए अपनी Trading Capital का एक Fixed Percentage लेते हैं। Percentage आमतौर पर उनकी Risk सहन शीलता और Trading Strategy पर आधारित होता है। उदाहरण के लिए, कोई Trader किसी भी Trade पर अपनी Total Trading Capital का 1% पर Risk लेने का Desicion ले सकता है। Position Size की Calculation Trading Capital को Risk Percent से गुणा करके की जाती है।

Position Sizing = Trading Capital * Risk Percentage

Volatility-Based Sizing (ATR Method)

Position Sizing के आधार के रूप में Market की Volatility का भी उपयोग कर सकते हैं। Averages True Range(ATR) Indicator का उपयोग अक्सर Market की Volatility को मापने के लिए किया जाता है। Position Size की Calculation Risk Amount को ATR Price को Volatility Multiplier गुणा करके भाग दे सकते की जाती है।

Position Sizing = Risk Amount/(ATR * Volatility Multipuler)

Kelly Criterio

Kelly Criterion एक बहुत कठिन Method है जो एक Trader की Success Rate और Risk Reward Ratio को ध्यान में रखती है। इसका Goal Long Term Target को अधिकतम करने के लिए Position Sizing को Adjust किया जाता है जिसका Formula इस प्रकार है ।

Position Sizing = (Win Probability * Win Rate – Loss Probability * Loss Rate) / Win Rate

Note : Kelly Criterio के लिए Win Possibility और Risk Reward Ratio के Accurate Result की आवश्यकता होती है, जो इसे अच्छी तरह से सही साबित करते Trading Track Record वाले Experience Trader के लिए ज्यादा सही बनाता है

Traders के लिए ऐसी Position Size Method का चुनाव Important है जो उनकी Risk सहनशीलता, Trading Goal और Trading Strategys के अनुसार हो। Position Size की Accuracy के Calculate करके, Traders अपने Risk को Effective ढंग से Manage कर सकते हैं और Financial Market में लगातार Profitability प्राप्त करने की अपनी Possibility को बढ़ा सकते हैं।

Triangle Pattern – के बारे मे 99% तक समझे और Profit बनाये – ये भी पढ़े

Importance of Position Sizing in Risk Management – पोजीशन साइजिंग का महत्व

Position Sizing Trading और Investment में Risk Management का एक Important Factor है। यह प्रत्येक Trade के लिए पुरे Trading Capital मे से कितना Trading Amount लेना है उसके लिए एक Important Role निभाता है, जिससे किसी Trader के Portfolio का Risk Factor पर Effected होने से बचाता है। Traders के लिए अपनी Capital को Protect करना, Risk को Effective ढंग से Manage करने और Financial Market में Long Term Success हासिल करने के लिए Position Sizing के Importance को समझना Important है। यहां कुछ Important कारण बताए गए हैं कि क्यों Risk Management में Position Size बहुत Important है ।

  • Capital Protection : Proper Position Size जब आपके अनुसार Market Conditions के दौरान Trading Capital को Protect करने में मदद करता है। Trader के Account के Size के अनुसार Per Trading Capital का चुनाव करके, Potential Losses को Control किया जा सकता है। यह Trading Capital मे गिरावट को रोकता है और कोशिश करता है कि Trader के पास Trading जारी रखने और Future के Opportunities का फायदा उठाने के लिए पर्याप्त Capital रहे ।
  • Risk Control : Position Size Traders को प्रत्येक Trade पर Risk के Level को Control करने की मदद करता है जो वे लेने को तैयार हैं। Per Trade Risk पर पहले से Decide Amount या Capital के Percentage को Decide करके, Trader Volatile Market Movement के ज्यादा Risk मे डालने से बचा सकते हैं। Sentiment को Manage करने और Fear या Greed को Control कर के Aggressive Decision से बच सकते है और Effective Risk Control कर सकते है।
  • लगातार Performance : लगातार Position Sizing का उपयोग करके Traders को Time के साथ Risk Management के लिए एक Balanced Approach बनाए रखने में मदद मिलती है। यह लगातार Stable और Prediction Trading Performance में योगदान देती है, जिससे Trading Strategies की देखना कि वो काम कर ही या नही Informative Decision लेने को आसान कर देता है।
  • Market Condition के अनुसार ढलने : अलग-अलग Market Conditions में Risk के अलग-अलग Levels की आवश्यकता होती है। High Volatility Market Conditions के दौरान, Position Size को कम करने से Capital को Protect करने में मदद मिल सकती है। इसके विपरीत, Favorable Market Conditions के दौरान, Trader Potential Profit को Book करने के लिए Position Sizing बढ़ा सकते हैं। Market Conditions के आधार पर Position Size को Adjust करने की Capacity बदलती Conditions के सामने अनुकूलनशीलता(Adaptability) और जवाबदेही(Responsiveness) को बढ़ाती है।
  • Losses ज्यादा होने पर भी Effect को कम करना: Trading में, Loss का सिलसिला कभी ज्यादा हो जाए तो। Position को Proper Size देकर, Trader अपने Account पर लगातार Loss होने पर भी उसके Effect को कम कर सकते हैं। Losses की Position के दौरान Position को Stop-Loss पर Exit कर बड़े Losses से बचा जा सकता है, जिससे Traders जब भी Success Trade लेने लगे तो उससे loss Effect को कम कर से और Trading को फिर से शुरू कर सके ।
  • Trading Strategy के साथ Risk को Adjust करना: प्रत्येक Trading Strategy अपनी अनोखी Risk के साथ आती है। Position Size Traders को उनकी चुनी हुई Strategies की Specific Risk विशेषताओं के साथ अपने Trade के Size को Adjust कर सके। High Success Rate और Favorable Risk-Reward Ratio वाली Strategies को बड़ी Position Sizing के साथ Profit Book किया जा सकता है, जबकि High Risk वाली Strategy को छोटे Position Size की आवश्यकता होती है।

Position Size Trading और Investment में Risk Management का एक Important Factor है। प्रत्येक Trade को Proper Position Size का चुनाव करके, Trader अपनी Capital को Protect कर सकते हैं, Risk को Effective ढंग से Manage कर सकते हैं और अपने Trading Performance में Stability बनाए रख सकते हैं। जैसे-जैसे Trader Strong Position Sizing Techniques के माध्यम से Risk Management को प्राथमिकता देते हैं, वे Financial Markets की दुनिया में Long Term Success और Sustainable Profitability प्राप्त करने की अपनी Possibility को बढ़ा सकते हैं।

Comman Mistakes in Position Sizing – पोजीशन साइजिंग कि कॉमन मिस्टेक

Comman Mistakes in Position Sizing - पोजीशन साइजिंग कि कॉमन मिस्टेक

Position Sizing को Trading का एक बहुत Important Part है, और इस Point पर गलति करने से Traders कि पुरी Performance पर और Trading Capital दोनो के कारण अच्छा Loss हो सकते हैं या Negative Effect पढ़ता है। हालाँकि Position Sizing सबसे पहले Effect हो सकता है, लेकिन इसके लिए सावधानीपूर्वक विचार करके और Risk Management Techniques का उपयोग कर ने कि आवश्यकता होती है। यहां कुछ Comman Mistakes दी गई हैं जो Trader Position Size में करते हैं:

  • Over Leveraging : यह एक बहुत Comman Mistake में से एक है Over Leveraging – Trading Account के Size के साथ एक ही Trade के लिए बहुत अधिक Capital उपयोग करना। जबकि High Leverag Potential Profit को बढ़ा सकता है, लेकिन साथ यह Potential Losses को भी बढ़ा सकता है। Over Leveraging से Important Capital पर Risk बढ़ जाता है, जिससे Traders के पास Loss से उबरने या Loss Recover करने के लिए आवश्यक अनुसार Capital नही बचता है।
  • Risk Reward Ratio को Ignore करना : Position Size को चुनाव करते Time Risk-Reward Ratio पर विचार न करना एक Normal गलतियो मे से एक है। कुछ Trader केवल Potential Profit पर ध्यान केंद्रित करते हैं और Trade में शामिल Potential Risk को नज़रअंदाज कर देते हैं। Sustainable Trading के लिए एक Favorable Risk-Reward Ratio Important होता है, क्योंकि यह Traders को कम Success Rate के साथ भी Profitability प्राप्त करने की मदद करता है।
  • सभी Trade के लिए Fixed Position Sizing का उपयोग करना: Market की Conditions या Volatility की परवाह किए बिना, प्रत्येक Trade के लिए एक Fixed Position Size का उपयोग करना एक गलती है जो Risk Management बिगाड़ कर सकती है। अलग-अलग Trades के लिए Market Conditions, Volatility और Risk सहन शीलता के आधार पर अलग-अलग Position Size की आवश्यकता हो सकती है।
  • Account Size को नजरअंदाज करना : कुछ Traders Position Size चुनाव करते समय अपने Account Size को नजरअंदाज करना । Trading Strategy या Risk को देखने के बावजूद, अपने Account Size से Risk Capacity से ज्यादा Risk लेना ।
  • बड़ी Position Sizing के साथ Loss Accept नही करना : Loss का होने के बाद ही, कुछ Traders Loss की तुरंत Recover करने के लिए अपनी Position Sizing को बढ़ा देते हैं। यह Behavior, जिसे “Losses को Accept ना करना” के रूप में जाना जाता है, बेहद Risk भरा और Sentiments से प्रेरित हो सकता है, जिससे अगर Market Trader के अनुसार नहीं चलता है तो और भी अधिक Important Loss हो सकता है।
  • Diversifie करने में असफल होना: Position Size चुनाव में Diversification ना होना एक Normal गलती है। किसी एक Asser या Trade में बहुत अधिक Capital पर ध्यान देने से Traders को अनावश्यक Risk का सामना करना पड़ सकता है। अलग-अलग Asset या Trades में Diversification लाने से Risk से बचा जा सकता है और पुरे Portfolio पर Individual Trading Decision के Effect को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • Market की Volatility पर विचार नहीं करना : Market की Volatility के आधार पर Position Sizing को Adjust नही करने के कार हानिकारक हो सकती है। अत्यधिक Volatile Market मे Risk को Effective ढंग से Manage करने के लिए छोटी Position Size की आवश्यकता होती है, जबकि कम Volatile Market Potential Profit हासिल करने के लिए बड़े Position Size मदद कर सकते हैं।
  • Stop-Loss का उपयोग ना करना : Proper Stop-Loss का उपयोग करे बिना Trading करना खतरनाक साबित हो सकता है। Stop-Loss लगाना एक Important Risk Management Techniques के रूप में कार्य करते हुए, Trade पर Potential Losses को Limited करने में मदद करते हैं। जो Trader Stop-Loss का उपयोग नहीं करते हैं, अगर Market उनके Against चलता है तो उन्हें Important Losses का सामना करना पड़ सकता है।

Position Size Trading में Risk Management का एक Important Factor है, और इस Sector में सामान्य गलतियों से बचना Success के लिए Important है। Traders को Proper Stop-Loss को चुनाव करने के लिए अपनी Risk सहनशीलता, Market की Conditions और Trading Strategy का सावधानीपूर्वक देखना और समझना चाहिए। इन छोटी छोटी गलतियों से बचकर, Trader अपनी Risk Management Techniques को Imporve कर सकते हैं और Financial Markets में लगातार Profitable बनने के लिए Possibility को बढ़ा सकते हैं।

Position Sizing In Hindi – YouTube Video

Dr. Mukul Agrawal

Conclusion

Position Size का चुनाव Trading और Investment का एक Important Factor है, जो Risk Management और पुरी तरह से Performance को Effect करता है। यह Capital को Protect करने, Risk को Control करने और Stability बनाए रखने में मदद करता है। Traders को अत्यधिक फायदा उठाने और Risk Reward Ratio को नजरअंदाज करना जैसी सामान्य गलतियों से बचना चाहिए। Position को Proper रूप से आकार देकर और Diversifie करके, वे Confidence से Market मे Profit Book कर सकते हैं और Sustainable Profitability प्राप्त कर सकते हैं। Position Size में महारत हासिल करने से Traders को सोच-समझकर Desicion लेने मे मदद मिलती है ।

5 Comments.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *