Scalping Trading In Hindi – Seconds मे कमा सकते है बड़ा Profit

Scalping Trading In Hindi - Seconds मे कमा सकते है बड़ा Profit
2/5 - (1 vote)

Scalping Trading एक Movement Strategy है जिसका उपयोग Traders द्वारा Financial Markets में छोटे Price Movements से Profit Book करने के लिए किया जाता है। Long Term Approach के विपरीत, Scalping में एक ही Trading Session के अन्दर छोटे छोटे Target लेते है Trade मे जल्दी Entry और Exit करना शामिल है। Trader Seconds से लेकर Minutes में होने वाले छोटे से छोटे Price के Ups-Downs का भी फायदा उठाते हैं, जिसका Target Accurate, और Displine के साथ लागए जाते है । शब्द “Scalping” की उत्पत्ति उन Traders की तेज और छोटे Price Points Capture करने के Nature से हुई है जो जल्दी से Movement की Range मे से जल्दी Profit Book कर Exit करना चाहते हैं।

Scalping का एक लम्बी History है, जिसकी खोज Traditional Trading Floor से हुई है जहां Open Market में जल्दी से Trade से Exit ली जाती थे। हालाँकि, Electronic Platform और High Frequent Trading के Revolution ने Scalping में क्रांति ला दी। जैसे Technology आगे बढ़ी इसने Retail Traders के लिए और अधिक आसान कर दिया है, जिन्होंने Short Term Opportunities को अच्छे से पहचानने के लिए Special Tool और Indicators का उपयोग करके और आसान किया है।

Online Brokerage Platform और कम Cost ने Scalping को और अधिक Popular बना दिया, जिससे Traders का एक बढ़ी Community को Attract किया और Scalping मे Success पाने के लिए अपनी Strategy को पुरी तरह से Define करने की आवश्यकता होती है। Scalping करने के लिए Financial Market में Active रहना पड़ता है, लेकिन यह अपने साथ बढ़ा Risk लाती है जो एक Solid Strategy, Displine और Risk Management के साथ ही कि जाती है।

Scalping Trading Meaning In Hindi – स्केलिंग ट्रेडिंग मीनिंग हिन्दी मे

Scalping Trading एक Short Term Strategy है जहां Traders Seconds से लेकर Minutes के अन्दर छोटे Price Movements से Profit Book करते हैं। इसमें एक ही Session में जल्दी से Trade और Exit करना शामिल है। Scalpers Technical Analysis और जल्दी Desicion लेने पर भरोसा रखते हैं। यह Approach Displine और Risk Management के साथ काम करती है। Potential रूप से फायदेमंद होने के बावजूद, इस मे Experience की आवश्यकता होती है और यह Skilled Traders के लिए सबसे अच्छी होती है।

What Is Scalping Trading – स्केलिंग ट्रेडिंग क्या होती है

Scalping Trading एक तेज और Short Term Trading Strategy है जिसका उपयोग Financial Markets में Seconds से लेकर Minutes के अन्दर Price Movement को Capture करके Profit Book करने के लिए किया जाता है। इसमे Traders का Goal होता जल्दी से Trade मे ले कुछ Points Capture करके Exit करना होता है, जिससे प्रत्येक Trade से छोटे Target लेते है लेकिन इनकी Position Sizing बढ़ी और Quantity ज्यादा होने कि वजह से छोटे Target मे अच्छा Profit Book कर पाते है।

Strategy के लिए Market की Conditions पर नजर रखना, Technical Indicators का उपयोग करना और जल्दी Decision लेना आवश्यक है। Scalper को Displine मे रहना आवश्यक होता है और Risk Management को Effective ढंग से Manage करना भी जरूरी होता है । यह Approach Experience Traders के लिए सही है और यह Liquid और Volatile Market में सबसे अच्छा काम करता है। हालाँकि, इसमे Risk भी बहुत होता है, जिसमें Transaction Cost और Potential Losses शामिल होते हैं। Successful Scalping Trading के लिए Proper Risk Management Important होता है।

Position Sizing In Hindi – Trading मे 90% तक Profit को बढ़ा सकते है – ये भी पढ़े

What Is Scalpers – स्केलपर्स क्या होते है

Scalpers ऐसे Traders होते हैं जो Financial Markets में छोटे Price Movements से Profit Book करने के लिए Scalping Trading Strategy का उपयोग करते हैं। वे कम Time के अन्दर जल्दी से Entry लेते है और Exit कर देते कुछ Points Cover करते है प्रत्येक Trade से छोटे Target लेते है लेकिन इनकी Position Sizing बढ़ी और Quantity ज्यादा होने कि वजह से छोटे Target मे भी अच्छा Profit Book कर पाते है।

इसमे Traders का Target पूरे Trading Session के दौरान प्रत्येक Trade मे छोटे Target लिये जाते है। Scalper Short Term Trend और Price में Ups-Downs की पहचान करने के लिए Technical Analysis और जल्दी Desicion लेने पर भरोसा रखते हैं। Successful रूप से Scalping करने के लिए Displine और Emotional को Control Important होता हैं, क्योंकि जल्दी से Desicion लेना Mental रूप से कठिन होता है। यह Strategy Experience Traders के लिए ही सबसे बढ़िया होती है और आमतौर पर इसमे Liquid और Volatile Market में उपयोग किया जाता है। हालाँकि, Scalping के Risk बहुत ज्यादा होता है, और Potential Losses को कम करने के लिए Effective ढंग से Risk Management करना आवश्यक होता है।

How To Do Scalping Trading – स्केलिंग ट्रेडिंग कैसे कि जाती है

How To Do Scalping Trading - स्केलिंग ट्रेडिंग कैसे कि जाती है

Scalping Trading में छोटे Time-Frame के अन्दर छोटे Price Movement से Profit Book करने लिए जल्दी Trade मे Entry करते है और तोड़ ही Time Exit करना शामिल है। यदि आप इस Strategy से Trading करना चाहते हैं, तो Scalping Trading को Effective ढंग से करने के लिए निम्न Points पर विचार जरूर करे ।

  • सही Broker चुनें: ऐसा Broker चुने जिसका System अच्छे और तुरंत काम करता हो साथ ही Reputated और भरोसेमंद को Select करें। Scalping के लिए तेजी से Order Process होने की आवश्यकता होती है, इसलिए एक Stable Platform वाले Broker कि आवश्यक है।
  • Scalping को समझें: Scalping के Concepts से जाने और समझे, जिसमें छोटा Holding Time Period, जल्दी से Profit Book करना और छोटे छोटे Target लेना आदि होते है ।
  • एक Trading Plan बनाए : एक स्पष्ट और अच्छी तरह से Define Trading Plan बनाए करें। अपनी Risk सहन शीलता, जितने Target Strategy के अनुसार ले और एक Trading Session में आपके द्वारा किए जाने वाले Trades के Number पहले से Select करें।
  • Technical Indicators का उपयोग करें: Short Term Trend और Entry/Exit Points की पहले चुनाव करने के लिए Technical Indicators Tool, जैसे Moving Averages, RSI और Stochastic Oscillator जैसे Indicators का उपयोग करें।
  • Liquidity और Volatility Instrument का चुनाव करे : High Volatility वाली Liquid Assets का Option को चुनें, क्योंकि वे अधिक बार Trading Opportunities देते हैं।
  • Stop-Loss और Profit Booking Level का चुनाव करें: Losses से बचाने के लिए Stop-Loss का उपयोग करें और Price Target पर Price पहुंचने पर Profit को Protect करने के लिए Stop Trail करें।
  • Market Conditions पर नज़र रखें: Market Conditions पर लगातार नज़र रखें और उन Relevant News और Events से Update रहें जो Market को Effect कर सकते हैं।
  • Risk Management का Practice करें: प्रत्येक Trade के लिए अपनी Trading Capital के एक छोटा से Percent से Trade करे Risk को सावधानीपूर्वक Manage करें।
  • Emotion पर Control रखें: Scalping के दौरान Emotional Displine बनाए रखें। Fear या Greed से Effect से बचें और अपनी पहले बनाए गये Trading Plan पर ठीके रहें।
  • Demo Account से शुरुआत करें: यदि आप Scalping में नए हैं, तो Real पैसे के साथ Trading करने से पहले Strategy के बारे मे जाने और Confidence हासिल करने के लिए Demo Account से Practice करें।
  • Transaction की Cost को ध्यान में रखें: चूंकि Scalping Trading में कई Trade भी ले सकते है, इसलिए Transaction Cost तेजी से बढ़ सकती है। कम Brokerage और भरोसेमंद Broker को चुनाव करे।
  • Performance पर ध्यान दे और Imporvement कि कोशिश : Strength और Weaknesses की पहचान करने के लिए Regular रूप से अपने Trading और Performance की Review करें। अपने Results के आधार पर अपनी Scalping Strategy को लगातार Adjust और Define करने कि कोशिश करें।

याद रखें कि Scalping Trading के लिए Experience, जल्दी Desicion लेने और Displine की आवश्यकता होती है। यह सभी Traders के लिए सही Strategy नहीं हो सकती है, और Success Practice और लगातार सीखने से आता है। इसमें शामिल Risks के पहले ही जानने ले और उन Funds के साथ कभी भी Trade न करें जिन्हें आप Losses नही ले सकते ।

15 Important Scalping Trading Tips – स्केलिंग ट्रेडिंग टिप्स

15 Important Scalping Trading Tips - स्केलिंग ट्रेडिंग टिप्स

Scalping Trading एक Risky लेकिन Potential रूप से फायदेमंद Strategies मे से एक है। यदि आप Scalping पर विचार कर रहे हैं, तो आपकी Success को बढ़ाने के लिए यह कुछ Important Points दिए गए हैं जिन पर जरूर ध्यान दे ।

  1. Time-Frame और Volatility : Price Movement को पकड़ने के लिए छोटे Time-Frame, जैसे 1 Min से 5 Min, पर ध्यान दे। Trading Opportunities को ज्यादा Capture करने के लिए High Volatile Period मे Trade करें।
  2. Liquid Instrument : Smooth और Trade लेने मे जिसमे आसानी हो साथ ही High Trading Volume वाली Liquid Asset का चुनाव कर Scalping के लिए।
  3. Low Trading Charge : Low Trading Charge लेने वाले Broker को ढूंढए, क्योंकि जिससे Trading मे Profit को बढाया जा सके ।
  4. जल्दी Trade मे Entry और Exit : Order Process होने में देरी से बचने के लिए एक भरोसेमंद और तेज़ Executions के लिए अच्छे Broker का चुनाव करें।
  5. Risk Management: संभावित Losses को Limited करने के लिए Proper Position Sizing का उपयोग करें और Tight Stop-Loss लगाए । एक ही Trade मे ज्यादा Trading Amount ले बचे अपनी Trading Capital के एक छोटे Percent से अधिक Risk न लें।
  6. Technical Analysis पर ध्यान दें: Accurate Entry और Exit Points के लिए Short Term Trend , Support और Resistance Level की पहचान करने के लिए Technical Indicators और Chart का उपयोग करें।
  7. News Events से बचें: Important Economical Announcements या High Effect वाली News Events के दौरान Trading से दूर रहें, क्योंकि इस Time पर Volatility High होती है।
  8. Displine पर ध्यान दें: अपनी Trading Plan पर ठिके रहें और Emotional Decision लेने से बचें। Aggressive Decision से Scalping काफी महँगी साबित हो सकती हैं।
  9. Trend के साथ Trade करें: चल रहे Trend की Direction में Scalping करने से Successful Trades की Possibility बढ़ जाती है।
  10. Patience रखें: Scalping Trading मे Desicion जल्दी लेने होते है जिसके के कारण शांत और Foused रहने की आवश्यकता होती है। जिसके के लिए Mental Clarity बनाए रखने कि आवश्यक होती है OverTrading से बचें और Break लें लें बड़े Profit और बड़े Loss के बाद
  11. Trades को लिखे करें और उनको Analyze करें: पिछले Trades की Review करे और उनसे सीखने के लिए एक Trading Journal रखें। Imporve के लिए Areas की पहचान करने से बेहतर Result मिल सकते हैं।
  12. लगातार सीखना: Market के Trend से Updated रहें और Experience Trader और Trading Resources के बारे मे सीखकर अपनी Scalping Strategy को और Define बना सकते है।

इन Points को Follow करके, आप अपने Scalping Trading Skill को Imporve कर सकते हैं और इस वाली Trading Approach में Success की Possibility बढ़ा सकते हैं। याद रखें कि Scalping मे लगातार Profitable बने रहने के लिए Practice, लगातार सीखने और एक Displined Approach की आवश्यकता होती है।

Stock Market Conversion के लिए हमारा Telegram Channel Join करे । – Join Now

Comman Mistakes In Scalping Trading – सामान्य गलतियो स्केलिंग ट्रेडिंग मे

Comman Mistakes In Scalping Trading

Scalping Trading अत्यधिक फायदेमंद हो सकती है, लेकिन यह कुछ Challenges और Risk के साथ आती है जिनके बारे में Traders को जानना जरूरी है और उनसे बचना आवश्यक है। Scalping Trading में सबसे Comman Mistakes में से कुछ निम्न हैं ।

  • OverTrading : Scalper Scalping की जल्दी Desicion वाले Nature में फंस सकते हैं और कम Time Period में बहुत सारे Trade मे Entry और Exit कर सकते हैं। जिससे OverTrading से Transaction Charge बढ़ सकते है और Quality Trade पर झुठ सकती है।
  • Trading Charge को नजरअंदाज करना: Scalping में बार-बार Trade करने से Charge के कारण Transaction Cost अधिक हो जाती है। इस Cost को नजरअंदाज करने से पुरे Trading Performance पर काफी Effect पड़ता है।
  • Proper Planning : Scalping Trading के लिए एक अच्छी तरह से Define Trading Plan की आवश्यकता होती है, जिसमें Proper Entry और Exit Points, Risk Management Strategies और Profit Target शामिल हैं। Proper Trading Plan ना होने के कारण Aggressive Decision हो सकते हैं और Risk बढ़ सकता हैं।
  • Losses पर Trade करना: असफल Trades के बाद Scalpers Losses को Recover करने कि कोशिश करते जिससे Losses बढते ही जाते है, इस लिए Emotional Decision लेने बचे और आगे Losses ना बढने दे ।
  • Risk Management : Scalping Trading में Effective Risk Management बहुत Important Point है। Proper Stop-Loss लगाए या एक Trade मे ज्यादा Risk ना ले जिससे Losses से बचा सकता है।
  • कम Volatility के दौरान Trading : High Volatile Market में Scalping सबसे Effective होती है। कम Volatility के दौरान Opportunities कम होती हैं और Unstable Price Movement में फंसने का Risk हो सकता है।
  • Emotional Trading : Scalping के लिए जल्दी Desicion लेने की आवश्यकता होती है, और Emotional Decision हो सकते हैं जिससे बचने के लिए Solid Analysis होने चाहिए।
  • गलतीयो से सीखना : Market की Conditions तेजी से बदल सकती हैं। Scalper को उससे सीखकर अपने Desicion को Adjust करना ।
  • Patience की कमी: Scalping Trading में अपने बनाए Setup का इन्तजार करना पढ़ता है और अगर Setup नही बने तो Trade ना करे ।
  • Trend के Against Trading करना : चल रहे Trend के साथ Trade करे Trend के Against Trade में करना Risk भरा हो सकता है।

इन Comman Mistakes से बचने से Scalping Trading की Success की Possibility में बढ़ा सकते है। Scalping के लिए Displine, Risk Management और Potential Losses को कम करते हुए Short Term Price Movement से Profit Book करने के लिए एक Displined Approach की आवश्यकता होती है।

Scalping Trading – YouTube Video

Neeraj Joshi

Conclusion – Scalping Trading

Scalping Trading एक Risk Trading Strategy है जिसमे Target छोटे और छोटे Time-Frame पर Trading कि जाती है और Price Movement से फायदा उठाया जा सकता है Scalping में Success के लिए Displine, Strong Technical Analysis और अच्छी Risk Management की आवश्यक होती है। Trade लेते Time Risk, Reward, Trading Charge आदि को पहले Calculate करना चाहिए। साथ ही इसमे उपस्थित सभी तरह कि Risk को जान लेना समझ लेना चाहिए। Beginner को Demo Account से Practice करना चाहिए । Displined Approach और लगातार सीखने के साथ Experienced Traders के लिए Scalping फायदेमंद हो सकती है।

1 Comment.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *